भारत स्टेज -4 [BS-4]

3 अप्रैल 2017 को सरकार ने कार्बन उत्सर्जन को जांच में बनाए रखने के लिए देश भर में भारत स्टेज -4 (बीएस -4) ग्रेड परिवहन ईंधन को औपचारिक रूप से लॉन्च किया। केंद्र सरकार का यह फैसला 1 अप्रैल 2017 से बीएस -3 वाहनों की बिक्री और पंजीकरण प्रस्तुतियों कोर्ट के आदेश के उपरांत आया है। केंद्र सरकार के इस फैसले के उपरांत सभी सरकारी तेल विपणन कंपनियां पूरे देश में अपने 53,515 इंधन स्टेशनों पर बीएस -4 श्रेणी अनुरूप इंधन उपलब्ध कराएगी। केंद्र सरकार अप्रैल 2020 तक बीएस -6 श्रेणी के इंधन को बाजार में उतारने के लिए प्रयासरत है।

मामला चर्चा में आया जब ऑटो मैन्‍युफैक्‍चरर्स ने BS-III व्हीकल्स की सेल पर बैन से एक साल की छूट पाने के लिए पिटीशन लगाई थी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे खारिज करते हुए 1 अप्रैल 2017 से देशभर में भारत स्टेज (BS)III व्हीकल्स के सेल पर बैन लगा दिया|

क्या है भारत स्टेज एमिशन नॉर्म्स

व्हीकल्स में फ्यूल होता है जिससे प्रदूषण होता है, इसे ही कंट्रोल करने के लिए एक स्टैंडर्ड तय किया जाता है, जिसे एमिशन नॉर्म्स कहा जाता है. जैसे-जैसे वक्त बदलता है टेक्नोलॉजी में भी विस्तार होता है, ऐसे में पॉल्यूशन कंट्रोल करने के लिए नित नए प्रयोग किए जाते हैं, जिससे एमिशन नॉर्म्स में भी बदलाव आता है|

सी एमिशन नॉर्म्स के तहत कंपनियों को व्हीकल्स तैयार करने के निर्देश दिए जाते हैं ताकी वायु प्रदूषण को कंट्रोल किया जा सके. नए स्टैंडर्ड आने से फ्यूल को भी बदला जाता है| यूरोप में इस तरह के मानक को यूरो कहते हैं, वहीं अमेरिका में ये मानक टीयर 1, टीयर 2 है|

अभी भारत में BS-IV स्टैंडर्ड चल रहा है और BS-III पर बैन लगाया गया है , भारत सरकार ने तय किया है कि वो BS-V को छोड़कर BS-VI एमिशन नॉर्म्स को लागू करेगी. जो 2020 तक लागू की जायेगी|

Add a Comment

Your email address will not be published.