लार्ड विलियम बैंटिक (1828-1853)

1803 ई. में यह मद्रास का गवर्नर था, इसी के समय 1806 ई. में माथे पर जातीय चिन्ह न लगाने तथा कानों में बालियाँ न पहनने देने पर वेल्लोर के सैनिकों ने विद्रोह कर दिया |

1833 ई. के ‘चार्टर एक्ट’ द्वारा बंगाल के गवर्नर जेनरल को भारत का गवर्नर जेनरल बना दिया गया | इस प्रकार भारत का पहला गवर्नर जेनरल लॉर्ड विलियम बैंटिक हुआ |

राजा राम मोहन राय के सहयोग से बैंटिक ने 1829 ई. में सती-प्रथा को समाप्त कर दिया गया | बैंटिक ने इस प्रथा के खिलाफ क़ानून बनाकर 1829 ई. में धारा 17 के द्वारा विधवाओं के सती होने को अवैध घोषित कर दिया |

बैंटिक ने कर्नल सलीमन की सहायता से 1830 ई. तक ठगी प्रथा को समाप्त कर दिया |

सन 1835 ई. में बैंटिक ने कलकत्ता में कलकत्ता मेडिकल कॉलेज की स्थापना की |

इसी के समय मैकाले की अनुशंसा पर अंग्रेजी को शिक्षा का माध्यम बनाया गया | मैकाले द्वारा क़ानून का वर्गीकरण भी किया गया |