विनोद राय बने बैंक बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी) के पहले चेयरमैन

विनोद राय बने बैंक बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी)  के पहले चेयरमैन

केंद्र सरकार ने पूर्व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (कैग) विनोद राय को बैंक बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी) का पहला चेयरमैन नियुक्त किया है। बीबीबी सरकार को सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में शीर्ष स्तर की नियुक्तियों पर सुझाव के साथ बैंकों के फंसे कर्ज की समस्या के निदान के बारे में सलाह देगा। आईसीआईसीआई बैंक के पूर्व संयुक्त प्रबंध निदेशक एचएन सिनोर, बैंक आॠफ बड़ौदा के पूर्व चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अनिल के खंडेलवाल, रेटिंग एजेंसी क्रिसिल की पूर्व प्रमुख रूपा कुडवा को ब्यूरो का सदस्य बनाया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्तीय सेवा विभाग के बैंक बोर्ड ब्यूरो के गठन के प्रस्ताव को मंजूरी दी। ब्यूरो के चेयरमैन के साथ पदेन अधिकारियों की नियुक्ति को भी मंजूरी मिली है। यह नियुक्ति दो साल के लिए की गई है। पिछले कुछ वर्षो में बैंकों का एनपीए में बढ़ोतरी हुई है। ऐसे में बीबीबी के समने इस संकट से जूझने की चुनौती होगी।

एनपीए में हुआ है इजाफा

देश में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) में इजाफा हुआ है। अनुसूचित वाणिज्यिक बैंकों का एनपीए पिछले एक साल में 4.78 से बढ़कर 5.91 प्रतिशत हो गया है। सरकार का कहना है कि विद्युत, सड़क, इस्पात और वस्त्र क्षेत्र में मुख्य रुप से ज्यादा एनपीए है। सरकार ने इन क्षेत्रों में नए सिरे से विकास के लिए कई अहम कदम उठाए हैं। एनपीए में इजाफे के चलते सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के मुनाफे में जबरदस्त कमी आई है।

कौन हैं विनोद राय

बैंक बोर्ड ब्यूरो (बीबीबी) के पहले चेयरमैन बनाए गए विनोद राय जनवरी 2008 से मई 2013 तक भारत के मुख्य नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक रह चुके हैं। यूपीए सरकार के दौरान टूजी स्पेक्ट्रम और कोयला ब्लाॠक आवंटन में लाखों करोड़ रुपए के घोटाले को उजागर करने के चलते चर्चा में आए थे।